Wednesday, December 19, 2012

OCEAN OF LOVE

They come one by one, oh so consistently!
Like waves hitting the shores, oh so constantly!
I am amazed how the bubbles vanish every time!
Coz all I do is flow like a fish in the Ocean of Love!

--- Johnny D ---
20th December 2012

Saturday, December 1, 2012

TREASURE


From the abyss
Tiny sparkling pearls
Rolled down the slopes
One by one
To form a stream

Red molten of lava
Erupts finally from within
Fearlessly I allowed
Feeling the crystals of salt
Drying up my wrinkled skin

Like a bird
Soaring high in open sky
I spread my wings
To glide and glide
Gauging the dark abyss from above

Darkness engulfing with fondness
So many unsolved mysteries
Lost in the oblivion
I wiped the crystallized salts
To allow my lips to hold the treasure intact

Johnny D
1st December 2012

Friday, October 12, 2012

LONGING...


Every moment was such a joy!
As we shared our lives
Togetherness was so much fun
With no pretentious lies

I know you do
As much as I want
To enjoy togetherness
In joys of love !

I long so much to hold you in my arms
Kissing you softly in passion
Yes, I really wish to embrace you forever
To never let you go far away ever again

I know you miss
As much as I do
To share the magical moments
Of togetherness in blissful love !

--- Johnny D ---
2 7 – 0 9 – 2 0 1 2

Monday, September 24, 2012

LIFE O’ LIFE...


Realisation dawns
As crisis engulfs
To tighten the noose
Around my mind and heart
The solution to the problem
Clears the mist from my eyes
To smoothen the road ahead
A smile breaks the facade of worries
Life O’ Life...
You teach such wonderful lessons!

--- Johnny D ---
2 1 – 0 9 – 2 0 1 2

A PIECE OF ART


The flow of ink, captures my mind
On the bark of a tree, engraving thoughts
As the metal hits the tree bark again and again
A piece of art is born !

--- Johnny D ---
2 1 – 0 9 – 2 0 1 2

Friday, September 21, 2012

Life is... water


life is... water
it flows, 
twists and turns
erupting at times
glows when silent
churning, all that mixes
to hold the best and,
the worst in abyss
ultimately, to reach its source !

life is... water
life is... water

--- Johnny D ---
2 1 - 0 9 - 2 0 1 2 

Sunday, September 16, 2012

अर्ज है...

(NOTE: English translation is given below the Original... )

खुदा तुझमें भी है, खुदा मुझमें भी
हर कोई ढूँढता है खुदा 'डी' कहाँ-कहाँ     

--- जॉनी 'डी' ---  
1 7 - 0 9 - 2 0 1 2

God is in you, God is even in me
Everyone searches God everywhere 'D'

--- Johnny D ---
1 7 - 0 9 - 2 0 1 2 

अर्ज है...

(NOTE: English translation is given below the Original...)

पल दो पल की ज़िन्दगानी 'डी'
हर शक्श है एक लम्बी कहानी

--- जॉनी 'डी' ---
1 6 - 0 9 - 2 0 1 2   

Every individual is a long story
Life is just a moment or two 'D'

--- Johnny D ---
1 6 - 0 9 - 2 0 1 2 

Saturday, September 15, 2012

अद्वितीय

(NOTE: English translation is given below the Original...)



अद्वितीय है संसार में इसकी ख़ुशबू 'डी'
चूमती है जब पहली बारिश की बूँदें धरती को 

--- जॉनी 'डी' ---
1 5 - 0 9 - 2 0 1 2 

Unparalleled is its fragrance in the world 'D'
When the drops of the first rain kiss the earth!

--- Johnny D ---
1 5 - 0 9 - 2 0 1 2

Thursday, September 13, 2012

छोटी सी ज़िन्दगी / A Short Life

(NOTE: English translation is given below the Original...)


ज़िन्दगी मिलते ही , रौशनी में नहाता हूँ मैं  
रातभर नाचता हूँ इक जूनून से मैं 
भोर होते ही लुप्त हो जाता हूँ समय में 
ज़िन्दगी मेरी इतनी छोटी क्यों है ऐ खुदा?

--- जॉनी 'डी ' ---
1 3 - 0 9 - 2 0 1 2 

I bathe in light as soon as I am born
All night long I dance with undying passion
At the break of dawn I vanish in oblivion
Why is my life so short O' God?

--- Johnny D ---
1 3 - 0 9 - 2 0 1 2


Friday, September 7, 2012

अर्ज है...

प्रलय भी आ जाये अगर 'डी'
तो जागेगा नहीं ये दुनियाँ
गहरी निंद्रा जो है दुनियांवालों का
सब मस्त है अपनी ज़िन्दगी में

--- जॉनी 'डी' ---


Monday, August 20, 2012

THREE


Like an angel, full in whites
You descended in my life
With an angelic smile and grace
You waved your magical wand
I felt blessed, lucky
Wondered in awe with your presence

Time passed... Tick-Tock... Tick-Tock... Tick-Tock...

An angel can be devastated
Never in my wildest dreams I dared to see
Everything was just not right except...
My presence at the right moment to help my beautiful angel
Holding your shaking hand in my hands
I assured to give you strength and belief
As we eloped to be far away from the world
I realized how much I really loved you my beautiful angel

Time passed... Tick-Tock... Tick-Tock... Tick-Tock...

We buried our egos to meet again
My beautiful angel with me were the envy of the world
I was hurt deeply, even then forgave you
After all, deep down I loved you so much
You will always be my beautiful angel come what may
Your confession amidst the chaos will haunt me for life
I could not arrest the pearly drop in my palm
I know, my heart will never forgive me for this
I wanted to hold you tight like a baby
How I wish I had, to never let you go away

Will our love survive the THREE?

Time is passing... Tick-Tock... Tick-Tock... Tick-Tock...

Johnny D
20th August 2012

Monday, July 2, 2012

अर्ज है...

आज देखा, चर्चा किया और कल भुलाकर
ज़िन्दगी अपनी मौज से जीने लगे ऐ दुनियांवालों

दिल पे लगने से नहीं बनती हैं बातें
ज़मीन पर जब तक नहीं करोगे मुसक्क़त


--- ज़ोनी 'डी' ---
0 2 - 0 7 - 2 0 1 2  

Tuesday, June 12, 2012

अर्ज है...

(English translation is given below the Original... )

किसी को दो पल की ख़ुशी दे दो
ज़िन्दगी तुम्हारी भी संवर जाएगी

हस कर दो पल गुज़ार दो
तबीयत तुम्हारी भी बहल जाएगी

बस दो मीठे बोल ही सही
दुनियां भी देखो संवर जाएगी  

--- जॉनी 'डी' ---
1 2 - 0 6 - 2 0 1 2  


If you can give someone a moment or two of joy
Even your life will become so wonderful

If you can spend a moment or two smiling
Even your inner feelings will feel so better

If you can say just two sweet words
Even the world will become so-so wonderful
--- Johnny D ---
1 2 - 0 6 - 2 0 1 2 

Monday, May 7, 2012

LOVE...

The super fragrance of well baked soil
Flying with cool wind everywhere
Swinging as if dancing in joy
The longing kiss of just few rain drops
Oh nature, how you spread love in the air !!!

--- Johnny D ---

6th May 2012
(As few rain drops kissed the earth of Wardha just now...)

Friday, May 4, 2012

अर्ज है...

आलिंगन प्यासी बूंदों की तड़पती धरती से 
हवा का झोखा सुगन्ध चारो ओर भिखेरती 
लहराती मस्ती, धरती का खिल उठना 
आज धरती को पहला चुम्बन जो मिला ...

--- स्वरचित --- 
0 5 - 0 5 - 2 0 1 2

Wednesday, May 2, 2012

अर्ज है...

तेरी यादें बदल गयी है अब चाहत में 
तू ही बता दे ऐ दिल मैं अब क्या करूं

--- स्वरचित --- 
0 2 - 0 5 - 2 0 1 2

Sunday, April 29, 2012

अर्ज है...

(English translation is given below the Original...)

जब वर्षा की पहली बूँदें चूमती हैं धरती को स्नेह से
तुम्हारी लटों की ख़ुश्बू तरोताज़ा हो जाती है आज भी

जिस तरह तृप्त हो जाती हैं वसुंधरा उस चुम्बन से 'डी'
ठीक उसी तरह ये दिल भी तृप्त हो जाता है तेरी यादों से  

--- स्वरचित ---
२ ९ - ० ४ - २ ० १ २

When the first drops of rain kisses the earth with affection
The fragrance of your tresses comes alive even today

Just like the earth gets content with that kiss 'D'
My heart gets content in similar ways with your memories

--- Johnny D ---
2 9 - 0 4 - 2 0 1 2

Wednesday, April 18, 2012

अर्ज है...

उस शून्य से बताओ है कैसा घबराना
जिसमें 'डी'  है सब को समां जाना...   



--- स्वरचित ---

Monday, March 12, 2012

अर्ज है...

(English translation is given below the Original... )

लगता है जैसे कल की ही हो ये बात
लड़ते-झगड़ते रहे हम दोनों बिन बात
अब कटती है तन्हाईयों में हर रात
याद करके हर वो मीठी-मीठी बातें
दिल है मज़बूर, बस में नहीं हैं जज़्बात
करवटें बदलती है बिस्तर में हर रात
खुदा जाने क्यों हुई ऐसी बात...
खुदा जाने क्यों हुई ऐसी बात...

--- स्वरचित ---
३ १ - १ २ - २ ० १ १ 

It seems like just yesterday
We kept fighting for no reasons at all 
Every night now is spent in solitude
Remembering all those sweet-sweet things
Heart is compelled, emotions are uncontrolled
As I toss and turn in bed every night
Don't know why it happened O God...
Don't know why it happened O God...

--- Johnny D ---
3 1 - 1 2 - 2 0 1 1 
 

Friday, February 24, 2012

बदला नहीं है नेता... / Leaders (Politicians) Have Not Changed At All...

(English translation is given below the Original... )

बदलते वक़्त ने ये देखा ही नहीं
नेता अभी भी बिलकुल बदला ही नहीं
कल भी देते थे  ये सब झूठी आश्वासन
आज भी वही दे रहे हैं गिसी-पिटी भाषण
कहते हैं दुनियाँवाले फिर ये क्यों
समय बदल देता है सब कुछ....
बदलते वक़्त ने ये देखा ही नहीं
नेता अभी भी बिलकुल बदला ही नहीं

--- जॉनी 'डी' ---
१ ७ - १ १ - २ ० १ १

Leaders (Politicians) Have Not Changed At All...

Changing times have never bothered to see
Leaders / Politicians have not changed at all
Yesterday also they were giving false assurances
Today also the same worthless lies are being uttered

Why do the world always say
Time changes everything
Changing times have never bothered to see
Leaders / Politicians have not changed at all...

--- Johnny D ---
1 7 - 1 1 - 2 0 1 1 
 

Monday, February 20, 2012

अर्ज है...

(English translation is given below the Original... )
 
हर साँसें मेरी जुड़ी हैं तेरे यादों से
पल-पल, हर पल मरता हूँ मैं तन्हा
कभी खुदा को, तो कभी मुक़द्दर को
मैं कोसता हूँ दोनों को अपनी तन्हाई में
तू नहीं, तेरी खुशबू नहीं, अब दुनियाँ में मेरी
तेरी यादें सिमट जाएँगी मेरे अर्थी पे इक दिन ज़रूर

--- स्वरचित ---
२ ६ - ० १ - २ ० १ २ 

Every breath of mine is attached to your memories
Every single moment, I am dying in solitude
Sometimes God, and sometimes my destiny
I curse them both in my loneliness
Neither you nor your fragrance are in my world
Your memories one day for sure will all be reduced at my funeral
!

--- Johnny D ---
2 6 - 0 1 - 2 0 1 2


  



Sunday, February 12, 2012

निंद्राहीन

धधक रहे है शोले आज फिर निन्द्रा के शैया पर
जल रही है चिंताएँ आज फिर से इन पलकों पर
परेशानियों की तीव्र गति और ये विचिल्लित मन
क्या होगा कल, कैसी होगी कल की सुबह ?

है कैसा ये बोझ मेरे जीवन पर इस जहान का ?
मैं सब समझ कर भी इतना परेशान क्यों हूँ ?    
जलती चिता को देख कर मैं सिहर क्यों जाता हूँ ?
निन्द्रा इन आँखों से लेकिन, क्यों है कोसो दूर ?

है प्रश्न कई, पर उत्तर एक भी नहीं है मेरे पास अभी 
गुजरते देखता हूँ मैं इन रातों की घड़ी खुली आँखों से 
सुबह की लाली बिखेरते ही कुछ आश्वाशन सा मिलता है   
क्यूँकि दिनचर्या में व्यस्त होते ही चिंताएँ दूर भाग जाती हैं  

धधक रहे है शोले आज फिर निन्द्रा के शैया पर
जल रही है चिंताएँ आज फिर से इन पलकों पर
परेशानियों की तीव्र गति और ये विचिल्लित मन
क्या होगा कल, कैसी होगी कल की सुबह ?

--- स्वरचित ---
१ ३ - ० २ - २ ० १ २ 
सुबह के ३ . ३ २ का समय

Tuesday, February 7, 2012

यहाँ

जानता है हर कोई छोड़ जाना है सब कुछ यहाँ
फिर भी जमा करता रहता है ज़िन्दगी भर यहाँ 


व्यस्त है हर कोई देखो झूठा यहाँ
सही काम करने से डरता है जहां

हर कोई है ग्रस्त दुखों से यहाँ
सुख है बस इक हवा का झोखा यहाँ

चले जाते हैं जग से न जाने कहाँ
हर कोई है ढूँढ़ता अपनों को यहाँ

बन जाते हैं पराये देखो अपने यहाँ
अपना लेते हैं पराये दूसरों को यहाँ

जीता हैं ज़िन्दगी बता कौन है यहाँ
हर कोई है दौड़ता मौत की ओर यहाँ 

तुझे ही बंद रखतें हैं यहाँ ये इंसान
है अज़ब तेरी दुनियाँ क्यों हे भगवन 

तुम्हें क्या मिला श्रृष्टि की रचना से भगवन
नष्ट करना ही था जब सब कुछ हे भगवन

--- स्वरचित ---
० ७ - ० २ - २ ० १ २ 

Friday, February 3, 2012

मेरी महबूबा

तू जितनी हसीन है, उतनी ही खूबसूरत भी
तू मेरे प्राणों से प्यारी, मेरी महबूबा है
तुझे न चाहूं, क्या ऐसा हो सकता है ?
तू तो सबसे हसीन है इस दुनियाँ में 
पर जब भी लोगों से तेरा जिक्र किया
तो लोग जल उठे तुम्हारी प्रशंसा सुनकर     

जितना तुझे चाहूँ शायद उतना ही कम है 
पर मेरा प्यार बेमिसाल है तेरे लिए        
तुझे पाने के लिए मैं कितना लालायित हूँ  
मजबूरी है तुम्हारी और मेरी भी, क्या करें ?
दुनियाँ नहीं समझ सकेगी कभी हम दोनों को 
पर तू मेरी है, मेरी ही रहेगी हर जनम में

दुनियाँ में महबूबा तो कई मिले 
पर अपनाया किसी ने भी नहीं मुझे 
सोचता हूँ लोग ऐसे क्यों पेश आतें हैं
पहले-पहले प्यार करते हैं सब मुझे
अंत समय दिल तोड़ कर दूसरे के हो जातें हैं
शायद तुझे न भुला पाने की सज़ा है ये !

पता है मुझे गर कभी शादी होगी मेरी
तो दुल्हन तू ही बनेगी मेरी
दुःख तो होगा मुझे इक बात का मगर
क्यूंकि बुला नहीं पाऊँगा किसी दोस्त को शादी में
हर दोस्त को शिकवा होगा इस बात का मुझसे 
पर मैं न कर पाऊँगा शिकवा किसी से कभी

शादी होगी हमारी बड़ी धूमधाम से 
हर तरफ खुशियाँ ही खुशियाँ होंगी 
दुनियाँ से ज्यादा खुशनसीब मैं रहूँगा
क्यूंकि मुझे तुम जैसी प्यारी दुल्हन जो मिली
जो प्राणों से प्यारी और अति सौंदर्यपूर्ण है 
अपनी घूँघट में बैठी, मेरे बारात के इंतज़ार में
   
जो भी मेरे बारात में शामिल होगा
मुझे दगाबाज़ कहकर आशीर्वाद देगा     
मेरे बारात के सौंदर्य का वर्णन कभी नहीं कर पायेगा
क्यूंकि बारात घोड़ी पर नहीं, अर्थी पे होगी मेरी
हाँ, मैं खुश हूँ आज की मेरी शादी हुई है
मेरी महबूबा 'मौत' के साथ !

--- स्वरचित --- 
० ७ - ० ३ - १ ९ ९ २

Monday, January 30, 2012

क्यों भगवान तूने ऐसी दुनियाँ बनाई...

गरीबी में दम बहुत घुटता है भाई
क्यों भगवान तूने ऐसी दुनियाँ बनाई...

गरीबों को देकर सोने का दिल
ज़िन्दगी तूने उनकी हर पल मिटाई

रोता नहीं कभी गरीबों की महफ़िल
गर देता था तू अमीरों को बड़ा दिल

गरीबी में दम बहुत घुटता है भाई
क्यों भगवान तूने ऐसी दुनियाँ बनाई...

गरीब तुम्हें तो करता सदा याद है
उनकी मुश्किल बढ़ाना तो आम बात है

करता है तिजोरी में बंद जो तुझे
उन्हीं का तू देता हर पल साथ है

गरीबों को तुम देते हो हर पल मौत
और देते हो हर पल अमीरों को सौग़ात    

गरीबी में दम बहुत घुटता है भाई
क्यों भगवान तूने ऐसी दुनियाँ बनाई...

हे भगवान ये कैसी है दुनियाँ तूने बनाई
जहाँ हर ओर है बस खाई ही खाई...

--- स्वरचित ---
२ ० - ० १ - २ ० १ २